How to become a web designer without a degree in Hindi

कुछ समय पहले सिर्फ बड़ी बड़ी कम्पनिया ही अपनी वेबसाइट बनवाती थी वही अब छोटी कम्पनिया भी अपनी वेबसाइट चला रही है। आखिर ये वेबसाइट चलाने के लिए उसे बनाया कैसे जाता है।और कौन बनाता है वेबसाइट बनाने के काम को पूरा करता है एक web designer.अगर आप एक web designer बनना चाहते है तो बिलकुल सही पोस्ट पर आये है। आज हम इस पोस्ट में बताने वाले है कि आप एक web designer कैसे बन सकते है।

What is web design:

आज के समय में पूरी दुनिया पर internet का राज चल रहा है जितने भी तरह का व्यापार है वो दुनिया के सामने लाने के लिए लोग अब website का इस्तेमाल कर रहे है।

बड़े बड़े organigation और व्यापारी आज के इस digital युग मे अपनी services को लोगो तक पहुँचाने और अपने product को सेल करने के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल कर रही है।

और इस काम के लिए जरुरी होता है एक वेबसाइट। जिसके जरिये लोगो तक अपनी बात पहुंचाई जाती है।

What is web design

और एक वेबसाइट को बनाता है एक web designer. एक web designer के पास कंप्यूटर और उसे जुड़े tools का भरपूर ज्ञान होता है। जिसका इस्तेमाल करके वो web designing कर पाते है।

वेबसाइट बनाने की प्रिक्रिया को web designing कहा जाता है जिसमे web page, layout, content production और graphic design सहित कई चीजे शामिल है। जो व्यक्ति वेबसाइट डिज़ाइन करने का काम करता है उसे web designer कहा जाता है।

web designing करने के लिए creativity का होना बहुत जरुरी होता है। web designer किसी भी वेबसाइट को बनाने के लिए software tools और programming language का इस्तेमाल करते है और अगर आपको web designer बनना है आपको इन सबका ज्ञान होना बहुत जरुरी है।

HTML (HYPER TEXT MARKUP LANGUAGE):

HTML एक coding language है जो हर वेबसाइट का structure बनाती है आप चाहे कोई भी वेबसाइट देख लो सब में html इस्तेमाल होता है। अगर आप किसी भी वेबसाइट के page source पर जाओगे तो वहा आपको html मिलेगा।

हम किसी भी वेबसाइट पर जाते है वहा पर इमेज देखते है टेक्स्ट देखते है वेबसाइट का जितना भी structure बना होता है वो सब html से ही बना होता है।

CSS (CASCADING STYLE SHEET):

web page के layout को डिज़ाइन करने के लिए और उसे आकर्षित बनाने के लिए css का इस्तेमाल किया जाता है। किसी web page में text, colour, font style, column size और पूरा layout design को पूरा करने के लिए css का इस्तेमाल किया जाता है।

इंटरनेट पर मौजूद सभी web pages html और css की मदद से ही बनाये होते है।

CSS लिखने का तरीका html से थोड़ा अलग होता है css से हम अपनी वेबसाइट को stylish बना सकते है और उसे एक अच्छा लुक दे सकते है और html सिर्फ वेबसाइट का structure बनाने के काम आता है।

GRAPHIC DESIGN:

graphic design words, images shape और रंगो का उपयोग करके किसी तरह के मैसेज को व्यक्त करने की एक प्रिक्रिया है graphic design को एक communication design के रूप में भी जाना जाता है।

क्योकि इसको लोगो तक अपनी बात पहुँचाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है graphic design physical रूप में और virtual रूप में। दोनों में हो सकती है।

कहने का मतलब ये है कि कुछ graphic design ऐसे होते है जिन्हे छुआ नहीं जा सकता। जैसे की हम अपने मोबाइल या लैपटॉप की स्क्रीन पर कोई बैनर देखते है जिसे हम छू नहीं सकते वो virtual graphic design होते है।

और जिन्हे हम अपने हाथो से छू सकते है वो physical graphic design होते है। जैसे की मैगज़ीन, बुक या फिर न्यूज़ पेपर में देखते है।

JAVA SCRIPT:

जावा एक programming language है जिसे high level language भी कहा जाता है। क्योकि इसे मानव द्वारा आसानी से पढ़ा और लिखा जा सकता है।

java language का इस्तेमाल multiple platforms पर किया जाता है जैसे कि console application, web application, और mobile application development, game development आदि में किया जाता है।

इसके अलावा इस लैंग्वेज का इस्तेमाल लगभग सभी devices के लिए software या aap develop करने के लिए भी होता है। जावा दूसरे programming language की तुलना में सरल बेहतर तेज और सुरक्षित प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है।

What is web development:

web developer एक programmer होता है जो world wide web applications को develop करते है जैसे website या वो applications जो web browser पर चलते है। web browser मतलब की जैसे chrome ,internet explorer, firefox आदि।

एक उदहारण लेकर चलते है जैसे अगर मुझे एक website बनवानी है मेरी कंपनी की तो उसके लिए मुझे एक या एक से ज्यादा web developer की जरुरत पड़ेगी। जो मुझे वो वेबसाइट बना कर देंगे।

What is web development

web developer mainly दो टाइप के होते है

  • Front – end developer
  • Back – end developer

Front – end developer:

Front – end web developer वेबसाइट या web applications के वो parts बनाते है जो यूजर को दिखते है उनके साथ user interact कर सकता है। Front – end developer बनने के लिए आपको html, css ,java के साथ साथ angular, react.js, backbone.js node.js की भी नॉलेज होना बहुत जरुरी है।

Back – end developer:

Back – end developer वो है जो applications के उन parts पर काम करते है जो यूजर को दिखते नहीं है लेकिन बहुत जरुरी होते है। जैसे यूजर की data base managment, server से information को भेजना information को data base में फ़िल्टर करना आदि।

जब भी हम कुछ अपने ब्राउज़र में टाइप करते है तो जो information हमारे सामने आती है वो Back – end में सेव होती है और वो Back – end से ही हमें दिखाई देती है। Back – end developer एप्लीकेशन और सर्वर को communicate करवाते है

Back – end developer बनने के लिए हमे php, ruby, pythen, java, MySQL आदि की नॉलेज होने बेहद जरुरी है।

Skills required of a professional web designer:

अब बात करते है कि हमे web designer बनने के लिए किस तरह की skills होना जरुरी है web designing में अपना career बनाने के लिए सबसे पहले एक व्यक्ति में creativity और अपने काम के प्रति रूचि होना बेहद जरुरी है।

इसमें पढ़ाई की qualification होना भी ज्यादा जरुरी है की आप में हमेशा कुछ नया और अलग करने की चाहत होनी चाहिए। creativity के साथ साथ imagination का गुण भी होना चाहिए

web designer को वेबसाइट डिजाइनिंग के दौरान काम आने वाली हर तकनीक का अच्छे से पता होना जरुरी है जिसके लिए कंप्यूटर का भरपूर ज्ञान होना बहुत जरुरी है जैसे css और html का भी ज्ञान होना चाहिए।

वेबसाइट बनाने के लिए जिन software tools का इस्तेमाल होता है जैसे की photoshop का भी ज्ञान होना चाहिए साथ ही इस बात का भी ध्यान रखने की जरुरत है।

की कभी भी दूसरी वेबसाइट के design, style, और content की कॉपी न करे। इससे आपकी वेबसाइट में copyright की समस्या भी आ सकती है।

How can I become a web designer at home:

web designer बनने के लिए आपको html, css, java आदि की नॉलेज होना बेहद जरुरी है और इनको आप internet के जरिये घर पर भी सीख सकते है।

अगर आपको coding और scripting का अच्छा ज्ञान है तो इस क्षेत्र में आप तेजी से आगे बढ़ सकते है web designing में किसी विशेष योग्यता की जरुरत नहीं है।

अगर आप को web designer बनने की इच्छा है तो इसकी शुरुआत आप 12th पास करने के बाद इस लाइन में जा सकते है। उसके बाद web designing में आप certificate diploma और degree courses करके आप कदम आगे बढ़ा सकते है।

How can I become a web designer at home

आप youtube या फिर google की मदद से online कुछ free courses कर सकते है या फिर कोई वेब डिज़ाइन कोचिंग join कर सकते है।

web designing सिखने के लिए आपको सबसे ज्यादा ध्यान html, java, css, adobe photoshop, web hosting, और seo पर देना होगा।

Career in web designing in hindi:

आज सारी चीजे ऑनलाइन हो गयी है तो आज के समय में web designer के लिए अच्छा scope है web designer का कोर्स करने के बाद आप किसी भी organisation या कंपनी में बतौर application developer, graphic designer, web content manager, web designer, web developer, seo specialist आदि जैसी पोजीशन पर काम कर सकते है।

इसके अलावा आपको किसी web designing कंपनी में भी आराम से नौकरी मिल सकती है। अगर आप चाहे तो खुद की एक freelance company भी खोल सकते है।

Web designing scope in india:

इंडिया मे आज हजारो ऐसी कम्पनिया है जो web designer को अच्छा salery package देकर hire करती है। भारत में एक web designer की सैलरी उसके experience और skill के ऊपर निर्भर करती है।

web designing के क्षेत्र में जो नए है उनकी शुरुआती सैलरी 15000-20000 रूपए मासिक होती है जैसे जैसे आपका experience बढ़ेगा वैसे वैसे आपकी सैलेरी भी बढ़ती जाएगी। एक experience web designer को मासिक 30000-40000 के आस पास मिलता है

Difference between web designing and web development in hindi:

IT industries में हमेशा से ही web designer और web developer की demand रही है। पर दोनों के रोल एक हद तक अलग अलग भी है। पर IT Companies चाहती है कि जो web designer हो उसे website develop करना भी आता हो।

या जो web developer है उसे website design करना भी आता हो। एक वेबसाइट में दो चीजे होती है एक designऔर दूसरा code। जो front end का काम होता है वो web designer करता है और जो back end का coding का काम होता है वो web developer करता है।

web designing software

Web designer tools:

TOOLSLANGUAGE
photoshop html
sketch css
illustrator javascript

Web developer tools:

TOOLSLANGUAGE
text editor html
IDEcss
browserjavascript
FTP clientsphp
local serverruby
browser extensionspythen
perl

web designer का काम होता है user interface को attractive बनाना और web developer का काम होता है वेबसाइट का पूरा data base तैयार करना। बहुत कम लोग होते है जो दोनों करते है। web designer और web developer की सैलेरी में भी थोड़ा difference होता है web developer के comparison में web designer की सैलेरी कम होती है।

अगर आप ये सोच रहे है कि दोनों में से career की शुरुआत किस में करे। तो मैं आपको बताता हु दोनों का काम अलग अलग होता है वेबसाइट की dsigning का काम web designer ही अच्छे तरीके से कर सकता है web developer नहीं कर सकता।

और वेबसाइट के functionality और coding का काम web developer ही अच्छे तरीके से कर सकता है web designer नहीं कर सकता। दोनों का ही अच्छा स्कोप है आप किसी एक में अपना career चुन सकते है।

Conclusion:

आपको एक web designer या एक web developer बनने के लिए html, css, javascript, php, ruby, pythen आदि language का ज्ञान होना बेहद जरुरी है और कुछ important tools का ज्ञान होना भी जरुरी है जैसे की photoshop, text editor etc वेब web desiging के सभी tools और language को सीख कर आप एक web designer बन सकते है। इन सब tools को आप इंटरनेट की मदद से घर पर भी सीख सकते है। या इन सब languages और tools को सिखने के लिए web designing का course भी कर सकते है।

ये भी पढ़े:

अगर आपको ये नहीं पता है की एक website या blog कैसे बनाते है तो आप दिए गए link पर क्लिक करके ब्लॉग या वेबसाइट बनाना सिख सकते है।

Make money online with blog in hindi

आपको एक वेबसाइट बनाने के बाद web hosting की जरुरत पड़ती है अगर आपको नहीं पता है कि web hosting क्या होती है और यह कैसे काम करती है तो आप दिए गए link पर click करके सिख सकते है।

वेब होस्टिंग क्या होती है-full information

इंटरनेट से पैसे कमाने का सबसे फ़ास्ट तरीका है। – affiliate marketing एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में जानने के लिए दिए गए link पर click करे।

Affiliate marketing full information in hindi

Leave a Reply

Share via
Copy link
Powered by Social Snap
%d bloggers like this: